Rajat Sharma

My Opinion

एक्शन में योगी : लखनऊ में बुलडोज़र, शिक्षकों की डिजिटल हाज़िरी पर रोक

AKB उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ ने पब्लिक की डिमांड पर कई बड़े फैसले किए. लखनऊ में नदी के फ्लड जोन में बने मकानों पर बुलडोजर नहीं चलेगा क्योंकि जिस जमीन पर मकान बने हैं, उनकी रजिस्ट्री लोगों के पास हैं, म्यूटेशन है, बिजली के कनेक्शन हैं, हाउस टैक्स जमा है. अब सरकार इस बात की जांच कराएगी कि नदी के फ्लड जोन में घर बने कैसे? ज़मीन बिकी कैसे? कौन से अधिकारी इसके लिए दोषी हैं? असल में लखनऊ के कुछ इलाकों के लोगों में बुलडोजर चलने के डर से जबरदस्त टेंशन थी. कुकरैल नहर के आसपास बसे कुछ इलाकों के घरों में मार्किंग कर दी गई थी जबकि लोगों के पास अपनी जमीन के कानूनी कागजात थे. सरकारी बिजली, पानी और सीवर का कनैक्शन था लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हो रही थी. इलाके के लोग प्रदर्शन कर रहे थे. मंगलवार को योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के पंतनगर, खुर्रमनगर, अबरार नगर, रहीम नगर और इंद्रप्रस्थ नगर के लोगों को बातचीत के लिए बुलाया, अफसरों को सामने बैठाया. लोगों ने बताया कि अफसर कह रहे हैं कि कुकरैल नहर के आसपास के इन इलाकों के करीब 2 हजार मकान फ्लड प्लेन जोन में हैं, इन घरों पर बुलडोजर चलेगा, कई मकानों की मार्किंग की गई है. इन लोगों ने योगी को बताया कि उन्होंने प्राइवेट जमीन खरीदी, रजिस्ट्री करवाई, नक्शा पास करवाया, हाउस टैक्स जमा किया और अब बीस बीस साल के बाद अचानक उनके घर को अवैध बताया जा रहा है, वो कहां जाएं ? लोगों की बात सुनने के बाद योगी ने ऑन द स्पॉट ही लोगों की समस्या का निराकरण कर दिया. सामने बैठे अफसरों से कहा कि अगर कागजात पक्के हैं, वैध हैं, तो फिर घरों पर लाल निशान किसके आदेश पर लगाए गए? घर पर बुलडोजर चलाने की बात किसके आदेश पर कही? योगी ने लोगों से कहा कि किसी के घर पर बुलडोजर नहीं चलेगा, पंतनगर हो या इंद्रप्रस्थ नगर, हर निवासी की सुरक्षा और संतुष्टि सरकार की जिम्मेदारी है. योगी ने कहा कि जिन अफसरों की वजह से लोग परेशान हुए, उनमे भ्रम फैला, दहशत फैली, उनकी जवाबदेही तय की जाएगी. योगी ने कहा कि जो लाल निशान घरों पर लगाए गए हैं, उन्हें भी मिटाया जाएगा. योगी ने प्रभावित परिवारों से कहा कि वो निश्चिंत और खुश होकर घर जाएं. जैसे ही ये खबर इन मोहल्लों में पहुंची तो वहां भी जश्न शुरू हो गया, आतिशबाजी हुई, मिठाइयां बंटी. कुकरैल के किनारे बसे इन इलाकों के निवासियों की सांसें पिछले एक महीने से अटकी हुई थीं. इनके घर पर बुलडोजर चलने की नौबत क्यों आई? ये भी समझ लीजिए. असल में सिंचाई विभाग ने 14 जून को एक रिपोर्ट दी. इसके मुताबिक 28 किलोमीटर लंबी कुकरैल नदी के दोनों किनारों के 50-50 मीटर इलाके को फ्लड प्लेन जोन घोषित किया गया है. अबरार नगर, पंत नगर, रहीम नगर और इंद्रप्रस्थ नगर के सैकड़ों मकान फ्लड प्लेन ज़ोन के दायरे में हैं. इस रिपोर्ट के बाद करीब दो हजार घरों पर लाल निशान लगा दिए गए. लोगों ने इसका विरोध किया. जमीन के कागजात अपने अपने घरों के बाहर चिपका दिए. लोगों ने कहा कि उन्होंने जमीन किसानों से पच्चीस साल पहले खरीदी है, सरकारी रिकॉर्ड देखकर खरीदी लेकिन सिंचाई विभाग कह रहा है कि यहां 1983 से कब्जा है. तो सवाल ये है कि सिंचाई विभाग के अफसर अब तक कहां सो रहे थे? बुलडोजर चलाने की नौबत क्यों आई ? ये सब कुछ बेलगाम अफसरों की गलती के नतीजे हैं. चूंकि यूपी में योगी आदित्यनाथ ने सरकारी जमीनों पर कब्जे हटाने के लिए बुलडोजर चलाने की छूट दी, माफिया गुंडों की संपत्ति पर बुलडोजर चलवाया. इसकी आड़ में कुछ अफसरों ने मनमाने ढंग से जनता को परेशान करना शुरू दिया. अब योगी ने ऐसे अफसरों पर लगाम कसने की शुरूआत की है. ये अच्छी बात है. लोगों के ये सवाल जायज हैं कि जब उन्होंने सरकार को टैक्स देकर जमीन खरीदी, रजिस्ट्री करवाई, म्यूटेशन करवाया, तब सिंचाई विभाग के अधिकारी कहां सोते रहे? अफसरों की गलती की सजा आम लोगों को क्यों दी जाए? ये बात समझने में योगी को देर नहीं लगी. इसीलिए उन्होंने जो आदेश जारी किया है, उसमें साफ साफ कहा है कि अफसरों की भी जिम्मेदारी तय होगी और उन अफसरों के खिलाफ कार्रवाई होगी, जिन्होंने लोगों के घरों पर लाल निशान लगाए, लोगों को डराया. ये फैसला इसलिए हो पाया क्योंकि योगी ने सीधे लोगों से बात की, न नेताओं की सुनी, न अफसरों की. सीधा संवाद का यही फायदा होता है. इसका फायदा आंदोलन कर रहे यूपी के प्राथमिक शिक्षकों को भी मिला. प्राथमिक स्कूलों में फिलहाल ऑनलाइन अटेंडेंस लागू करने का आदेश वापस ले लिया गया. शिक्षक संघ के नेताओं के साथ मुख्य सचिव की बैठक में ये फैसला किया गया कि पहले शिक्षकों से बात की जाएगी, उनकी समस्याओं का समाधान होगा, उसके बाद ऑनलाइन अटेंडेंस पर फैसला होगा. पिछले कई दिनों से प्रदर्शन कर रहे सरकारी प्राइमरी स्कूल के शिक्षकों की नाराजगी को देखते हुए योगी ने सोमवार रात को ही इस मामले की पूरी जानकारी ली. अधिकारियों से पूछा कि अचानक ऑनलाइन अटैंडेंस को लागू क्यों किया? शिक्षकों को नेताओं से बात क्यों नहीं की गई ? इसका असर तुरंत दिखाई दिया. मंगलवार को मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने प्राइमरी शिक्षक संघ के नेताओं से मुलाकात की और फैसला किया गया कि एक एक्सपर्ट कमेटी का गठन किया जाएगा. कमेटी सभी जिलों में सरकारी शिक्षकों से बात करेगी, उनकी परेशानियों के समझने की कोशिश करेगी. सबकी बात सुनने के बाद ही ऑनलाइन अटेंडेंस पर कोई फाइनल फैसला होगा. अगले दो महीने तक ये आदेश स्थगित रहेगा. असल में ये मुद्दा भी इसीलिए बड़ा हो गया क्योंकि अफसरों ने बिना सोचे समझे, ज़मीनी वास्तविकता को जाने बगैर ऑनलाइन अटेंडेंस का आदेश जारी कर दिया. स्कूलों में कनैक्टीविटी का इश्यू है, इंटरनैट कनैक्टीविटी नहीं हैं, टीचर्स की पढ़ाने के अलावा दूसरे सरकारी कामों में भी लगाया जाता है. कई बार सरकारी ऐप काम ही नहीं करता. ऐसे में शिक्षक ऑनलाइन अटेंडेंस कैसे भर सकते हैं? योगी के दखल के बाद जैसे ही मुख्य सचिव ने शिकक्ष नेताओं से बात की, तो ग्राउंड रियलिटी समझ में आ गई और मसले का हल का रास्ता निकल आया. कुल मिलाकर मुद्दा सीधे संवाद का है. सरकार और जनता के बीच अफसर पुल का काम करते हैं. अगर अफसर अपनी जिम्मेदारी नहीं निभाते हैं तभी इस तरह की समस्याएं सामने आती हैं. इसीलिए अब योगी ने अफसरों पर सख्ती की है.इसका एक उदाहरण अलीगढ में भी मिला. उत्तर प्रदेश सरकार अब सरकारी जमीनों के पट्टों की जांच कराएगी. अगर गलत तरीके से पट्टे किए गए हैं तो ऐसा करने वाले अफसरों के खिलाफ एक्शन होगा. इस मामले में पहली गाज IAS अफसर देवी शरण उपाध्याय के ऊपर गिरी. अलीगढ़ में सरकारी जमीनों के पट्टों में गड़बड़ी के आरोप में देवी शरण उपाध्याय को सस्पेंड किया गया है. योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश सरकार के अफसरों को हिदायत दी है कि वो नियम कानून के दायरे में रहकर काम करें, जनता में भय और भ्रम फैलाने की कोशिश न करें. योगी ने अधिकारियों से कहा है कि सरकारी जमीनों पर अवैध कब्जे हटाना जरूरी है लेकिन अगर कहीं कोई बस्ती बसी है, जमीन के कागजात है, सरकारी नियमों के तहत जमीन खरीदी गई है, तो सीधे बुलडोजर लेकर पहुंचना ठीक नहीं हैं.

Get connected on Twitter, Instagram & Facebook

Yogi in action : Stays Lucknow demolitions, teachers’ digital attendance

AKB Uttar Pradesh chief minister Yogi Adityanath on Tuesday took two important decisions on public demand. He ordered a stay on demolition of all houses built in river flood zone across Lucknow and also put a hold on implementation of digital attendance for thousands of basic school teachers for the next two months. Officials of state irrigation department had put red markings on houses built in Pant Nagar, Abrar Nagar, Indraprastha Nagar and Rahim Nagar in Lucknow, saying these were meant for demolition by bulldozers. Yogi told residents of these colonies that there would be no demolition, but accountability will be fixed against officials who allowed these colonies to be built on floodplain zone in the first place. These buildings fall within the 50-metre floodplain area of Kukrail canal, where no construction is allowed. The owners of these buildings had their properties registered with local authorities, were paying house tax to the Muncipal Corporation, and had valid electricity connections. The houseowners had formed a Trans-Gomati Niwasi Sangharsh Samiti and had been resisting demolition. Yogi appealed to officers not to create confusion and fear in the minds of people. There were celebrations in the colonies of Lucknow which had been spared from demolitions. State minister Sanjay Nishad welcomed Yogi’s decision. He mentioned the incident of June 30 in Jaunpur, when bulldozer was used to demolished 50 trees in the garden of a woman named Lilawati, after she refused to vote in favour of the village pradhan. Lilawati had met Nishad in Lucknow, when the village pradhan’s son, in collusion with local officials, used bulldozer to demolish the trees. Timely intervention by chief minsiter Yogi Adityanath saved the home of Lilawati which was about to be demolished. Whether it is the incident in Jaunpur or in Lucknow, a section of bureacrats in UP have started taking law into their hands by indiscriminately using bulldozers to demolish properties. Yogi had ordered use of bulldozers to demolish illegally acquired properties of local mafia dons and gangsters, but some bureaucrats, using this as a facade, started harassing people by threatening use of bulldozers. Yogi has now started reining in these ‘Dirty Harrys’. This is a welcome step. The demands of people living in Lucknow are also justified. They have been saying that they legally bought land by paying stamp duties to the government, got them registered, got the mutation process done, but irrigation department officials were then sleeping. Nobody from that department objected. These people have been saying why they should be punished for the mistakes of some bureacrats? Yogi on Tuesday clearly said that the accountability of bureaucrats will be fixed and action will be taken against those officers who put red markings on the buildings, meant for demolition in the flood zone. In another decision, the UP government on Tuesday postponed its decision to implement online digital attendance for teachers, after statewide protests. The state chief secretary told a delegation of teachers that an experts’ committee will be set up to review the decision to digitise all 12 types of registers in schools across the state and also take up other teachers’ issues. Earlier, on Monday night, Yogi Adityanath took a meeting of primary education department officials and asked them how such a decision was taken in a hurry, without taking the teachers into confidence. The chief secretary met the leaders of teachers’ union, and promised to set up a committee to review the decision. Till that time, the decision for digital attendance will be kept in abeyance. It is a fact that the officials issued the order without checking whether there was digital internet connectivity in each and every primary school in the state or not. Teachers are also used for other government work like census, survey, election, etc. Most of the time state government app does not work, and the teachers were finding themselves in a quandary as to how to mark their attendance digitally. It was only after Yogi intervened that the state government met the teachers’ union leaders, the ground reality was realized and the matter was sorted out. In a third decision, Yogi government has decided to review all government land leases afresh, and take action against officials who will be found responsible for giving government land on lease illegally. IAS officer Devi Sharan Upadhyay was suspended on Tuesday on charge of irregularities in giving government land on lease in Aligarh. In governance, the main problem is: lack of direction communication. Yogi directly listened to the pleas of commoners, bypassing bureaucrats and politicians. Such a direct communication has its own benefit. Bureaucrats work as a bridge between the government and the people. Such problems arise when some bureaucrats do not discharge their tasks effectively. Yogi has already started wielding the stick, beginning with senior IAS officer Devi Sharan Upadhyay, who has been suspended.

Get connected on Twitter, Instagram & Facebook

मोदी-पुतिन वार्ता : भारत के लिए गौरव का क्षण

akb fullप्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से साफ लफ्ज़ों में, दो टूक कहा कि युद्ध किसी समस्या का समाधान नहीं है, बम बंदूक के जरिए कोई रास्ता नहीं निकल सकता. मोदी ने कहा कि यूक्रेन और रूस के बीच जंग को खत्म कराने में, शान्ति बहाल करने में भारत अपनी भूमिका निभाने को तैयार है. ये पहला मौक़ा है जब रूस की राजधानी में बैठकर रूसी राष्ट्रपति की आंखों में आंख डालकर दुनिया के किसी दूसरे देश के नेता ने यूक्रेन के मसले पर इतनी साफगोई से और इतने सख्त शब्दों में युद्ध की मुखालफत की हो. मोदी ने व्लादिमीर पुतिन से यहां तक कहा कि जिस तरह से कल रूस ने कीव में बच्चों के हॉस्पिटल पर हमला किया, वो कतई ठीक नहीं था. मोदी ने कहा कि बच्चों को इस तरह से मरता हुआ देखकर हर इंसान को कष्ट होगा, कोई इसका समर्थन नहीं कर सकता.आतंकवाद के सवाल पर भी मोदी ने भारत के सख्त रुख़ का इजहार किया. प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया में आंतकवाद कहीं भी हो, किसी भी रूप में हो, सबको मिलकर उसका विरोध करना ही पड़ेगा. आतंकवाद का समर्थन करने वाले मुल्कों के खिलाफ दुनिया को एकजुट होना पड़ेगा क्योंकि दहशतगर्दी इंसानियत की सबसे बड़ी दुश्मन है. हालांकि मोदी ने बार बार कहा कि रूस भारत का भरोसेमंद दोस्त है, दोनों देशों के रिश्ते ऐसे हैं जिसमें खुलकर बात की जा सकती है. नरेन्द्र मोदी ने आज जिस अंदाज़ में बात की, पुतिन ने जिस तरह मोदी का सम्मान किया, उन्हें गंभीरता से सुना, ये दुनिया के लिए बड़ा संदेश है.

पूरी दुनिया की निगाहें इस बात पर थीं कि मोदी रूस जाकर यूक्रेन युद्ध पर क्या स्टैंड लेते हैं. चूंकि मोदी इससे पहले कई मौकों पर यूक्रेन युद्ध के खिलाफ बयान दे चुके थे, पुतिन से युद्ध रोकने की बात कह चुके थे लेकिन इस बार, पुतिन से बात आमने सामने होनी थी. अमेरिका और दूसरे यूरोपीय देशें ने मोदी के रूस दौरे पर नाखुशी जाहिर थी लेकिन मोदी ने इन सब बातों की परवाह नहीं की.भारत का जो स्टैंड है, उसे पूरी साफगोई और सलीक़े के साथ रखा. मोदी पुतिन की द्विपक्षीय वार्ता के बाद जब दोनों नेता सार्वजनिक तौर पर मीडिया से बात करने आए तो मोदी ने सबसे लंबी बात यूक्रेन युद्ध पर ही की. मोदी ने पुतिन से साफ कहा कि बम और बंदूक से आज तक किसी मसले का हल न निकला है और न आगे भी निकलेगा, रास्ता बातचीत से ही निकलेगा. इतना ही नहीं मोदी के मॉस्को पहुंचने से ठीक पहले कल रूस की तरफ से यूक्रेन की राजधानी कीव में रूसी सेना ने बमबारी की थी, बच्चों के अस्पताल पर बम गिराए थे. मोदी ने कहा कि बच्चों के अस्पताल पर रूस का मिसाइल हमला अफसोसनाक है, युद्ध में बच्चों को मरते देखकर दिल को चोट पहुंचती है, ऐसा नहीं होना चाहिए. पुतिन के सामने मोदी ने बातें सख्त कहीं लेकिन अंदाज़ अपनेपन वाला था. मोदी ने कहा कि कल पुतिन ने उन्हें अपने घर बुलाया, दोस्त की तरह उनका स्वागत किया, ये दिल को छूने वाला संकेत था, इसीलिए वो एक सच्चे दोस्त की तरह दिल की बात अपने दोस्त से कह सकते हैं. नरेन्द्र मोदी ने कहा कि भारत यूक्रेन युद्ध को ख़त्म करने और शांति बहाल करने में पूरी मदद करने के लिए तैयार है. पुतिन के सामने मोदी ने कहा कि वह पूरी दुनिया को ये भरोसा देना चाहते हैं कि बातचीत से यूक्रेन युद्ध ख़त्म किया जा सकता है, ये संभव है. पुतिन ने मोदी की बात ध्यान से सुनी. जब मोदी ने यूक्रेन युद्ध के शांतिपूर्ण हल की बात की तो पुतिन ने कहा कि यूक्रेन युद्ध ख़त्म करने के लिए मोदी जो कोशिशें कर रहे हैं, रूस उसकी सराहना करता है. मोदी का ये बयान सिर्फ यूक्रेन और रूस के लिहाज से बड़ा नहीं है. भारत के प्रधानमंत्री का ये बयान दुनिया की दूसरी बड़ी ताकतों के लिए भी संदेश है क्योंकि यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदोमीर ज़ेलेंस्की ने मोदी के रूस दौरे पर अफ़सोस जताया था और अमेरिका ने भी भारत और रूस की दोस्ती को लेकर चिंता जताई थी. लेकिन आज मोदी ने ये साफ कर दिया कि भारत किसी के दबाव में आने वाला नहीं है, भारत वही कहेगा, वही करेगा, जो भारत के हित में होगा, जो भारत को सही लगेगा. मोदी ने ये बता दिया कि भारत, पुतिन की आंखों में आंख डालकर उसकी आलोचना कर सकता है, गलत को गलत कह सकता है. हालांकि ऐसा नहीं है कि मोदी ने यूक्रेन युद्ध के लिए सिर्फ रूस की आलोचना की.मोदी ने रूस में आंतकवादी हमलों के लिए यूक्रेन को भी चेतावनी दी. पुतिन के साथ बातचीत में मोदी ने रूस में हुए आतंकवादी हमलों की निंदा की. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत दहशतगर्दी के दंश को पचास साल से भोग रहा है, इसका मुकाबला कर रहा है, इसलिए भारत आंतकवाद के दर्द को भलीभांति जानता है, महसूस करता है. मोदी ने कहा कि दुनिया में आतकवाद कहीं भी हो, किसी भी रूप में हो, भारत हर तरह के आतंकवाद के सख़्त ख़िलाफ़ है और इसके खिलाफ हर तरह के संघर्ष में साथ देने को तैयार है. रूस और भारत ने परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने का फ़ैसला किया है. इसके तहत रूस की कंपनियां भारत में छह नए परमाणु रिएक्टर लगाएंगी. भारत ने रूस के कज़ान और येकाटेरिनबर्ग में दो नए वाणिज्य दूतावास खोलने का फ़ैसला किया है तो रूस ने अपने यहां की सेना में धोखे से भर्ती किए गए भारतीय नागरिकों को वापस भेजने में पूरी मदद करने का भरोसा दिया है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इतने खुलकर, इतने आत्मविश्वास के साथ अपनी बात इसलिए कही क्योंकि राष्ट्रपति पुतिन के साथ मोदी का व्यक्तिगत, पुराना रिश्ता है. पुतिन ने भी मोदी की खातिरदारी में कोई कोरकसर नहीं छोड़ी. पुतिन ने मोदी के लिए अपने निजी घर पर प्राइवेट डिनर का आयोजन किया. पुतिन का डाचा राजधानी मॉस्को के बाहरी इलाक़े में है. जब मोदी डिनर के लिए पहुंचे, तो पुतिन खुद मोदी के स्वागत के लिए गेट पर उनका इंतजार कर रहे थे, गले मिलकर अभिवादन किया. इसके बाद पुतिन ने मोदी को अपना घर, घर का गार्डेन और अस्तबल भी दिखाया. पुतिन ने लगातार तीसरी बार चुनाव जीतने पर मोदी को मुबारकबाद दी और कहा कि वो मोदी की ऊर्जा से बहुत प्रभावित हैं. नरेंद्र मोदी ने पुतिन से क्या कहा, ये तो सबने सुना लेकिन पुतिन ने मोदी के बारे में जो कहा वो और भी दिलचस्प है. पुतिन ने मोदी की गारंटी की बात की, कहा भारत और रूस के रिश्ते सभी दिशाओं में विकसित हो रहे हैं, इसकी गारंटी मोदी की नीति है. पुतिन ने मोदी के बारे में जो दूसरी बात कही वो और भी बड़ी है.पुतिन ने कहा कि मोदी हमेशा भारत के लोगों के हित में फैसले लेते हैं. फिर इस बात पुतिन ने क्वालिफाई करते हुए कहा, वो सोच भी नहीं सकते कि कोई ताकत मोदी को डराकर या मजबूर करके भारत के खिलाफ कोई फैसला करवा सकती है. तीसरी बात पुतिन ने कही कि मोदी एक इंटेलिजेंट शख्स हैं, उनके नेतृत्व में भारत जबरदस्त प्रगति कर रहा है. पुतिन की इन बातों को अगर इस संदर्भ में देखें कि मोदी ने पुतिन से बात करते वक्त अपने विचारों को चाशनी में डुबोकर पेश नहीं किया.मोदी ने पुतिन के सामने यूक्रेन पर हुए हमले का विरोध किया, रूस की बमबारी में मारे गए बच्चों की मौत का भी जिक्र किया.पुतिन जैसे नेता आमतौर पर ऐसी बातें सुनने के आदी नहीं होते, ना ही ऐसे नेताओं की फितरत किसी दूसरे की खुलकर तारीफ करने की होती है. लेकिन हमने ये मॉस्को में होते हुए देखा. मोदी का ये सम्मान, वैश्विक नेताओं में मोदी की ये पोजिशन, भारत के लिए सम्मान की और गौरव की बात है.

Get connected on Twitter, Instagram & Facebook

Modi-Putin Summit : Proud Moment For India

AKBPrime Minister Narendra Modi on Tuesday told Russian President Vladimir Putin about his anguish over the death of innocent kids in a Russian missile strike on a children’s hospital inside Ukraine. Modi said, “any person having faith in humanity will feel pain when people, expecially innocent kids die.. the heart bleeds and I spoke about these issues to you yesterday”. In the presence of reporters inside Kremlin, Modi said, “as a friend, I have always told you that peace is essential for our future generations. No solution can be found on the battlefield. Solutions and peace talks will not succeed under the shadow of guns, bombs and bullets. A way for peace must be found through dialogue”. Clearly, Modi underlined the need for an immediate cessation of hostilities between Russia and Ukraine, which have been raging since the last three years. No other world leader, except Modi, ever spoke to Putin on the Ukraine war in these words. Modi also added the issue of terrorism and said, terrorism in any form, in any country, must be opposed by all nations unitedly. “Terrorism is the biggest enemy of humanity”, he added. Modi’s words and his talks with Putin have sent a clear message to the world community, particularly the US and NATO allies. The world was watching what Modi would tell Putin about the Ukraine war, and the Indian prime minister did not mince words while expressing his anguish over the killing of children in the Russian missile strike on a children’s hospital inside Ukraine. The West had expressed unhappiness when Modi decided to meet Putin in Moscow, but the clear manner in which the Indian prime minister conveyed the world’s concerns to the Russian leader has been taken note of by the western media. Putin listened to Modi’s words carefully and replied that Russia appeciates the Indian prime minister’s efforts to end the Ukraine war. During bilateral talks, Russian company Rosatom agreed to set up six nuclear reactors in India, while India agreed to set up two new consulates in Kazan and Yekaterinburg. The Russian President also agreed for immediate repatriation of all Indians recruited in the Russian armed forces, after Modi raised the issue. Modi was conferred Russia’s highest civilian honour Order of St. Andrew the Apostle by Putin. One must understand, it is because of the personal bonding between Modi and Putin that the Indian prime minister bluntly told the Russian leader about what he thought about the death of innocent kids in the Ukraine war. Putin did not leave any stone unturned in showering lavish hospitality on Modi. He invited Modi to a private dinner at his personal dacha near Moscow, and himself drove a cart with Modi. At the main gate, both leaders gave a hug to each other and Putin showed his residence, garden and horse stable to Modi. The world has heard what Modi told Putin about the Ukraine war, but what Putin said to Modi was more interesting. The Russian leader spoke about ‘Modi’s guarantee’. He said, India-Russian releationship is expanding in all directions and the gurantee for this expansion is Modi’s policy. Putin also made another remark about Modi. The Russian leader said, Modi always takes crucial decisions keeping the interests of the Indian people in mind. Putin said, he can never imagine any world power intimidating or pressuring Modi to take decisions against India’s interest. Thirdly, Putin described Modi as an intelligent person, under whose leadership India is making huge progress. One must hear Putin’s words in the context of what Modi told Putin about the Ukraine war. He opposed the war, expressed his anguish over the death of kids in Russian missile strike. Normally, leaders like Putin never hear such words from any world leader in the presence of media, nor does Putin praises any world leader so eloquently. What we saw in Moscow clearly underlines the fact that India is getting well-deserved respect on the world stage, as Modi strengthens his position in the comity of world nations.

Get connected on Twitter, Instagram & Facebook

मुंबई में मुसीबत : शिंदे दूसरों पर ज़िम्मेदारी थोप नहीं सकते

AKB30 मॉनसून की पहली ही बारिश में मुंबई बेहाल हो गई. मुंबई वालों के लिए सोमवार का दिन मुसीबतों से भरा रहा. रात एक बजे बारिश शुरू हुई और सुबह चार बजे तक मुंबई के ज्यादातर इलाके पानी में डूब गए. सुबह जब लोगों की नींद खुली,तो हर तरफ पानी ही पानी था. सरकार की तरफ से कहा गया कि मुंबई में सिर्फ चार घंटे में तीन सौ मिलीमीटर से ज्यादा बारिश हो गई, इसलिए हालात खराब हुए. दादर, सायन, हिंदमाता, अंधेरी, वाकोला, माटुंगा, भांडुप, सांताक्रूज़ और बांद्रा-कुर्ला जैसे तमाम इलाकों में सड़कें दरिया में तब्दील हो गईं. सड़कों पर 3 से 4 फीट तक पानी भर गया. अंधेरी, मिलन और मलाड सबवे के आसपास तो सबसे बुरा हाल था, जहां पांच से छह फीट तक पानी भर गया. लोग जब दफ्तरों के लिए निकले तो रास्ते में फंस गए. स्कूल कॉलेज बंद कर दिए गए और सरकार ने लोगों से घरों में रहने की अपील की, BMC के कर्मचारी सड़कों पर उतरे, रेल की पटरियों पर पानी भर गया. मुंबई की लाइफ लाइन लोकल ट्रेन्स की रफ्तार भी कम हो गई. पन्द्रह ट्रेनों के समय बदले गए, कुछ ट्रेनों को रद्द करने पड़े, कई उड़ानों में देर हो गई, भारी बारिश और Low visibility की वजह से 50 उड़ाने रद्द करनी पड़ीं. दर्जनों विमानों को अहमदाबाद, हैदराबाद, इंदौर जैसे शहरों की तरफ डाइवर्ट किया गया. भारी बारिश के कारण मंत्री और विधायक भी विधानसभा नहीं पहुंच पाए जिसके कारण विधानसभा की कार्यवाही सोमवार को नहीं हो पाई. सबसे बुरा हाल तो मुंबई के तमाम सबवे का रहा, जहां दिन भर पानी भरा रहा. कई इलाकों में बारिश का पानी घरों में भऱ गया. वकोला में पुलिस वाले भी बारिश के पानी में फंस गए क्योंकि थाने के चारों तरफ पानी भरा था. न अंदर जाना मुमकिन था, न बाहर निकलना. BMC के कर्मचारियों ने पंप से थाने में भरे पानी को निकाला, इसके बाद ही पुलिस वाले थाने से बाहर निकल पाए. मुंबई में रविवार रात से सोमवार तक 400 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश रिकॉर्ड की गई. अगले चार दिन तक भारी बारिश का रेड अलर्ट घोषित किया गया है. बारिश के मौसम में मुंबई की सड़कों का डूबना कोई नई बात नहीं है. हर साल मुंबई में ऐसा ही होता है, जब तमाम निचले इलाके डूब जाते हैं और कई पॉश इलाकों में भी पानी भर जाता है. मुंबई में मीठी नदी, ओशिवारा, दहिसर और पोइसर, ये चार जलाशय हैं और अगर ज्यादा बारिश हुई तो इन जलाशयों का पानी ओवरफ्लो करने लगता है और आसपास के इलाके डूब जाते हैं. अगर बारिश के दौरान समंदर में ऊंचे ज्वार आएं हो तो हालात और खराब हो जाते हैं क्योंकि नालों और नदियों का पानी संमदर में जाने के बजाए, समंदर का पानी शहर में आ जाता है. सोमवार को भी यही हुआ. तीसरी बड़ी समस्या ड्रेनेज की है. नालों की सफाई न होने के कारण बारिश का पानी सड़कों पर आता है. सोमवार को जब कई इलाकों में पानी भरा तो महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे सीधे BMC के डिजास्टर कंट्रोल रूम पहुंचे जहां पूरे मुंबई शहर के सात हज़ार सीसीटीवी कैमरों से शहर के हालात पर नजर रखी जाती है. एकनाथ शिंदे ने कंट्रोल रूम से पूरी मुंबई के हालात का जायज़ा लिया. लेकिन विपक्ष ने मुंबई में जलभराव के लिए सीधे-सीधे एकनाथ शिंदे की सरकार पर निशाना साधा. महाराष्ट्र में कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि मुख्यमंत्री और उनके मंत्री फोटो सेशन करा रहे हैं, जबकि उन्हें जो जरूरी कदम उठाना था, वो नहीं उठाया. मुंबई में भारी बारिश हर साल होती है. हर साल सरकार और BMCकी तरफ से मॉनसून के लिए तैयारियों के दावे किए जाते हैं और हर साल मुंबई वाले इसी तरह के हालात का सामना करते हैं.आपको जानकर हैरानी होगी कि BMC का बजट कई राज्यों के बजट से ज्यादा है. BMC का इस साल का बजट साठ हजार करोड़ का है, जबकि हिमाचल प्रदेश का बजट 53 हजार करोड़ रुपये का है. BMC अपने बजट का दस परसेंट हिस्सा मॉनसून से पहले सड़कों को दुरूस्त करने, गड्ढों को भरने, नालों की सफाई और दूसरे कामों के लिए करता है. इस साल छह हजार करोड़ रूपए इसके लिए रखे गए जिसमें से सड़कों को ठीक करने और गड्ढों को भरने के लिए 545 करोड़ का बजट था. इतना पैसा खर्च होने के बाद भी हालात क्या है, ये तस्वीरो में सबके सामने है. हर साल पानी भरता है, हर साल लोग परेशान होते हैं और हर साल राजनीतिक पार्टियां हालात के लिए एक दूसरे को जिम्मेदार ठहराती हैं. ये सही है कि एकनाथ शिन्दे ये कहकर नहीं बच सकते कि उनकी सरकार तो दो साल पहले बनी है. उनसे पहले की सरकारों ने मुंबई की हालत क्यों नहीं सुधारी? ड्रेनेज सिस्टम को पहले ठीक क्यों नहीं किया गया? अब कोई एकनाथ शिन्दे से पूछे कि BMC में पिछले तीस साल से शिवसेना का ही कब्जा था और एकनाथ शिन्दे इस दौरान शिवसेना में ही थे, विधायक रहे, मंत्री रहे, उनके पास ये विभाग भी रहा, फिर उन्होंने ये काम पहले क्यों नहीं किया, जो करने का दावा वो आज कर रहे हैं? कुल मिलाकर गड़बड़ी सिस्टम की है. इसके लिए किसी एक को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता. सबको मिलकर काम करना होगा, तभी मुंबईकरों को हर साल आने वाली इस मुसीबत से निजात मिलेगी.

Get connected on Twitter, Instagram & Facebook

Mumbai waterlogging : Shinde can’t shift his blame on others

AKB30 Life in Mumbai was disrupted after the first heavy downpour of monsoon, measuring more than 300 mm, drowned the metropolis early on Monday morning. The downpour began at around 1 am and continued non-stop till 4 am, inundating roads and throwing traffic out of gear. Both Western and Central Railway services came to a virtual halt due to waterlogged tracks. Large parts of roads in Dadar, Sion, Hindmata, Andheri, Vakola, Matunga, Bhandup, Santa Cruz and Bandra-Kurla looked like flowing rivers. The worst-hit areas were Andheri, Milan and Malad subway. Hundreds of officegoers were stuck due to inundated roads. Schools and colleges were closed and people were advised to remain indoors. Several flights to and from Mumbai had to be either cancelled or rescheduled. At least 50 flights had to be cancelled due to heavy rains and low visibility and the planes had to be diverted to Ahmedabad, Hyderabad and Indore. Several MLAs and ministers could not reach the assembly and secretariat. Weather office has declared red alert for the next four days in Mumbai. Soon after the water level receded, there were huge crowds of commuters inside local trains and at bus stops, trying to reach their destinations desperately. Waterlogging in Mumbai due to heavy rains has been a regular feature almost every year with low-lying areas facing the brunt. Mithi river, Oshiwara, Dahisar and Poisar are water bodies which overflow whenever there is heavy downpour. If there is high tide, the situation turns worse and water enters most of the parts of the city. The third biggest problem is drainage. Lack of proper cleaning of drains causes water to flow back on the roads and into localities. Maharashtra chief minister Eknath Shinde visited the BMC disaster control room to take stock of the situation with the help of nearly 7,000 cctv cameras installed inside. The opposition, led by Congress and Shiv Sena (UBT), took jibes at Shinde saying that he was more interested in photo-ops instead of taking preventive measures to avoid waterlogging. It is a fact that every year the state government and BMC claim that they have made full preparations for the onset of monsoon, and every year the people of the metropolis face the same waterlogging problems. You will be surprised to know that the annual budget of Brihanmumbai Municipal Corporation (BMC) is more than the budtets of several state governments. This year, BMC budget is to the tune of Rs 60,000 crore, whereas Himachal Pradesh’s annual budget is only Rs 53,000 crore. BMC claims it spends 10 per cent of its budget, which is Rs 6000 crore, on cleaning up drains, repairing potholes and other civic necessities. Out of this, Rs 545 crore was earmarked for repairing potholes on roads, but the visuals after Monday rains are there for all to see. Every year political parties level charges and counter-charges against each other. It’s true Chief Minister Shinde cannot evade his accountability by saying that his government is only two years old. Shinde has been questioning why earlier governments did not improve the conditions of the city. One should ask Shinde, it was the Shiv Sena which controlled the BMC for the last 30 years, and he was then an important leader of the united Shiv Sena. He had been an MLA and a minister, and he was holding the portfolio that looked after Mumbai’s civic issues. The question arises, why Shinde did not took measures at that time. The root of the problem lies in the system that is faltering. No single individual can be held accountable. All stakeholders of the city should join hands and work towards mitigating the miseries of the people. Only then can Mumbaikars heave a sigh of relief when there is a heavy downpour.

Get connected on Twitter, Instagram & Facebook

ब्रिटेन की नई लेबर सरकार से भारत को उम्मीदें

AKB30 ब्रिटेन में भारतीय मूल के पहले प्रधानमंत्री ऋषि सुनक को ज़बरदस्त हार का सामना करना पड़ा. 14 साल के बाद कंजर्वेटिव पार्टी सत्ता से बाहर हो गई. 200 साल में कंजरवेटिव पार्टी को सबसे बड़ी हार का सामना करना पड़ा. वक्त से पहले चुनाव कराने का दांव ऋषि सुनक को भारी पड़ा और 14 साल के बाद लेबर पार्टी की धमाकेदार में वापसी हुई, ज़बरदस्त जीत हुई . 650 सदस्यों वाले हाउस ऑफ कॉमन्स में लेबर पार्टी ने 412 सीटें जीती हैं जबकि ऋषि सुनक की कंज़रवेटिव पार्टी को सिर्फ 121 सीटें मिलीं. लेबर पार्टी के नेता कियर स्टारमर ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री बन गए हैं.. चुनाव के नतीजे आने के बाद, कियर स्टारमर ने ब्रिटेन के किंग चार्ल्स थर्ड से मुलाक़ात की और किंग ने उन्हें ब्रिटेन का नया प्रधानमंत्री नियुक्त किया. किंग चार्ल्स से मुलाक़ात के बाद कियर स्टारमर, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री आवास 10 डाउनिंग स्ट्रीट पहुंचे, जहां उनका ज़ोरदार स्वागत हुआ. इससे पहले पूर्व प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने चुनाव में हार स्वीकार करते हुए किंग चार्ल्स से मुलाक़ात कर अपना इस्तीफ़ा सौंप दिया था. इसके बाद वो अपनी पत्नी अक्षता मूर्ति के साथ प्राइम मिनिस्टर्स हाउस से निकल गए थे. ऋषि सुनक की कंज़रवेटिव पार्टी पिछले 14 साल से सत्ता में थी. इस दौरान, पार्टी तमाम विवादों में घिरी रही, अर्थव्यवस्था की बुरी हालत, रहन सहन के गिरते स्तर और एक के बाद एक कई स्कैंडल्स में फंसने की वजह से कंज़रवेटिव पार्टी की इन चुनावों में हार लगभग तय मानी जा रही थी. ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री कियर स्टारमर ने अपने समर्थकों से कहा कि वो तुरंत ही काम पर लगने जा रहे हैं… क्योंकि उनके सामने बड़ी चुनौतियां हैं. ब्रिटिश संसद के चुनाव में सबसे रोचक बात ये है कि इस बार भारतीय मूल के 26 उम्मीदवार चुनाव जीतकर आए. इनकी जड़ें केरल से लेकर पंजाब तक फैली हैं. सत्ता में लौटने वाली लेबर पार्टी के टिकट पर भारतीय मूल के 19 सांसद जीते हैं. इस बार सिख समाज के 10 उम्मीदवार ब्रिटिश संसद के लिए चुने गए हैं. ये अब तक का ब्रिटिश संसद पहुंचने वाले सिख उम्मीदवारों की सबसे बड़ी संख्या है. इनमें 5 सिख महिलाएं और 5 सिख पुरूष हैं और ये सब लेबर पार्टी के हैं. इन 10 सिख सांसदों में तनमंजीत सिंह धेसी और प्रीत कौर गिल लगातार तीसरी बार चुनाव जीतकर आए हैं..ये दोनों ब्रिटिश संसद में लगातार सिख समाज से जुड़े मसले उठाते रहे हैं. इनके अलावा जो 8 सिख जीतकर आए हैं वो फर्स्ट टाइमर हैं. इस बार ब्रिटेन की संसद में 26 सांसद भारतीय मूल के होंगे ,पिछली संसद में लेबर पार्टी के सिर्फ़ छह सांसद ही भारतीय मूल के थे. इस बार सरकार बनाने वाली लेबर पार्टी के 19 सांसद भारतीय मूल के हैं, इसकी वजह ये है कि ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री कियर स्टारमर ने अपनी चुनावी सभाओं में कहा था कि भारत के साथ संबंध बेहतर बनाना उनकी प्राथमिकताओं में से एक है. उन्होंने कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बताया था, स्वामी नारायण मंदिर में जाकर पूजा की थी, बड़ी संख्या में भारतीय मूल के लोगों को टिकट दिया और इसका असर ये हुआ कि भारतीय मूल के होने के बावजूद ऋषि सुनक भारतीय मूल के वोटरों का समर्थन नहीं पा सके. लेबर पार्टी को भी अब भारतीयों की ताकत का अंदाजा हो गया है. इसलिए उम्मीद करनी चाहिए भारत और ब्रिटेन के बीच फ्री ट्रेड एग्रीमेंट में जो रुकावटें हैं, वो जल्दी दूर होंगी. कियर स्टारमर भारतीय IT प्रोफ़ेशनल्स को वर्क परमिट देने पर राजी होंगे, दोनों देशों के बीच जल्दी से जल्दी समझौता हो जाएगा.

Get connected on Twitter, Instagram & Facebook

INDIA HAS BIG HOPES FROM UK’S NEW LABOUR GOVT

AKB30 The first British Prime Minister of Indian origin, Rishi Sunak, suffered a devastating electoral defeat for his Conservative party, after Labour party led by Sir Keir Starmer swept to power after 14 years. This was the worst Conservative defeat in the last two centuries. Rishi Sunak’s gamble of preponing the general elections failed. In a House of 650, Labour Party won 412 seats (a gain of 214), while Conservative Party could win only 121 seats (a big loss of 252 seats). Minutes after Rishi Sunak resigned, Keir Starmer took over as the new Prime Minister and later announced his cabinet. David Lammy became the Foreign Secretary, Rachel Reeves beame the first woman to become Chancellor of the Exchequer (Finance Minister), Yvette Cooper became Home Secretary and John Healey Defence Secretary. The Conservative party, ruling United Kingdom for the last 14 years, was defeated because of intra-party controversies, poor condition of economy, falling levels of living standards, and a host of scandals. Before entering 10, Downing Street, Starmer vowed to rebuild Britain “brick by brick” and provide security to millions of working class families. He said, “From now on, you have a government unburdened by docrine, guided only by a determination to serve your interests. To defy, quitely, those who written our country off….Brick by brick, we will rebuild the infrastructure of opportunity. The world-class schools and colleges, the affordable homes that I know are the ingredients of hope for working people. The security that working-class families like mine could build their lives around.” A record 29 Indian-origin MPs have been elected this time. Out of them, 19 MPs belong to Labour, seven to Conservative party, two Independents and one a Liberal democrat. Fifteen MPs are of Pakistani origin. In the outgoing House of Commons, there were only six MPs of Indian origin belonging to Labour Party. But this time, their number is 19 in the Labour Party. This was the reason why Keir Starmer told his election meetings that improving relations with India will be one of his top priorities. He described Jammu and Kashmir as an intergral part of India, he performed pooja at the Swami Narayan temple, and gave party tickets to a large number of leaders of Indian origin. The result was that, Rishi Sunak failed to get the support of voters of Indian origin. Labour party has realized the electoral power of British Indians. One should be optimistic about both India and the UK signing the much-awaited Free Trade Agreement soon. India is hopeful that Starmer’s goernment would agree to give work permits to Indian IT professionals. Both the countries are hopeful about an early agreeement.

Get connected on Twitter, Instagram & Facebook

अग्निवीर मुआवज़ा : सेना के बयान पर भरोसा करें

AKB30 राहुल गांधी एक बार फिर अग्निवीर को लेकर विवाद में पड़ गए. उन्होंने एक बार फिर आरोप लगाया कि शहीद अजय कुमार के परिवार को कोई मुआवजा नहीं मिला. भारतीय सेना ने इस बात का खंडन किया, इस आरोप को गलत बताया. सेना ने एक बयान जारी कर के कहा कि शहीद अग्निवीर के परिवार को अब तक करीब एक करोड़ रूपए मिल चुके हैं. दो दिन पहले लोकसभा में भी राहुल गांधी ने इल्जाम लगाया था कि सरकार अग्विनीर योजना को लेकर गलतबयानी कर रही है. राहुल ने कहा था अग्निवीर को न शहीद का दर्जा मिलता है, न पेंशन मिलती है, न कोई मुआवज़ा मिलता है. और सबूत के तौर पर राहुल गांधी ने पंजाब के शहीद अग्निवीर अजय कुमार का उदाहरण दिया. कहा वो अजय के परिवार से मिले थे और परिवार ने बताया कि उन्हें कोई मुआवजा नहीं मिला. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने उसी वक्त सदन में खड़े होकर राहुल को सदन को गुमराह करने को लेकर टोका, साफ कहा कि अगर कोई अग्निवीर सेना के ऑपरेशन में या सीमा पर देश की रक्षा करते हुए शहीद होता है तो उसके परिवार को करीब एक करोड़ रूपए मिलते हैं. लेकिन गुरुवार को राहुल गांधी ने एक बार फिर राजनाथ सिंह पर झूठ बोलने का इल्जाम लगाते हुए एक वीडियो जारी किया जिसमें उन्होंने शहीद अग्निवीर अजय के पिता का वीडियो लगाया, जो ये कहते हुए दिखाई दे रहे हैं कि सरकार की तरफ से उन्हें कुछ नहीं मिला. इस वीडियो का संदर्भ देते हुए राहुल गांधी ने कहा कि अब झूठ बोलने के लिए रक्षामंत्री को देश से मांफी मांगनी चाहिए. जैसे ही राहुल गांधी का वीडियो सामने आया तो ये बड़ा मुद्दा बन गया. सेना ने बयान जारी किया, पूरी बात बताई, कहा कि शहीद अग्निवीर के परिवार को करीब एक करोड़ रूपए मिल चुके हैं. इसके अलावा अभी कागजी कार्रवाई पूरी होने के बाद करीब 67 लाख रूएए और दिए जाएंगे. इसलिए ये कहना ठीक नहीं है कि रक्षामंत्री ने लोकसभा में गलत बात कही. अब सवाल ये है कि इस मामले का सच क्या है ? क्या वाकई में शहीद के परिवार को कोई मुआवजा नहीं मिला? क्या रक्षामंत्री ने झूठ बोला? राहुल ने वीडियो में जिस व्यक्ति का बयान दिखाया, वह चरणजीत सिंह हैं, अग्निवीर अजय कुमार के पिता. चरणजीत सिंह लुधियाना में रामगढ़ सरदारां गांव के रहने वाले हैं. चरणजीत सिंह के बेटे अजय सिंह अग्निवीर के तौर पर सेना में भर्ती हुए थे और इसी साल 18 जनवरी को राजौरी में एक बारूदी सुरंग के धमाके में शहीद हुए थे. चूंकि राहुल गांधी ने अपनी बात को सही और राजनाथ सिंह के बयान को गलत साबित करने के लिए शहीद के पिता को ढाल बनाया तो सेना की तरफ से बयान जारी करके पूरी हकीकत सामने रखी गई. बयान में कहा गया है कि शहीद अग्निवीर अजय कुमार के परिवार को अब तक 98 लाख 39 हज़ार रुपए मिल चुके हैं और 67 लाख तीस हजार रूपए और दिए जाने बाकी है. ये रकम औपचारिक कागजी कार्यवाही पूरी होने के बाद जल्द से जल्द दे दी जाएगी. सेना की तरफ से बताया गया कि अग्निवीर 18 जनवरी को शहीद हुए थे और उसके बाद एक महीने से भी कम वक्त में उनके परिवार को जीवन बीमा रकम के 50 लाख रुपए मिल गए थे. पचास लाख की ये रक़म 13 फ़रवरी को अजय की मां मनजीत कौर के खाते में क्रेडिट हुई थी. इसके बाद 10 जून को सेना की अपनी बीमा पॉलिसी के तहत 48 लाख 39 हज़ार रुपए भी अजय की मां के खाते में क्रेडिट हो गए थे. इस तरह कुल मिलाकर 98 लाख 39 हजार रूपए की कुल रकम शहीद के परिवार को मिल चुकी है. सेना ने अपने बयान में जो जानकारी दी है, उसके कागजी सबूत इंडिया टीवी के पास हैं. हमें जो दस्तावेज मिले हैं, उसके मुताबिक 18 जनवरी को अग्निवीर अजय सिंह की शहादत के बाद, ICICI लोंबार्ड बीमा कंपनी ने उनकी मां मनजीत कौर को 13 फरवरी को 50 लाख रुपए की पेमेंट की थी. इस बीमा पॉलिसी की पेमेंट के लिए शहीद अजय के परिवार की तरफ़ से 24 जनवरी को क्लेम दाख़िल किया गया था. 12 फ़रवरी को बीमा कंपनी को सारे कागज़ात मिल गए थे और 13 फ़रवरी को कंपनी ने बीमा पॉलिसी के तहत भुगतान को मंजूरी दे दी थी. ये बीमा पॉलिसी रक्षा मंत्रालय की अग्निवीर योजना का हिस्सा है जिसमें रक्षा मंत्रालय ने ICICI Lombard के साथ एक memorandum of understanding पर दस्तखत किया है. इसके तहत युद्ध के दौरान या सरहद पर शहीद होने वाले अग्निवीर के नॉमिनी को 50 लाख रुपए दिए जाते हैं. इसके अलावा, सेना हर अग्निवीर का एक बीमा अलग से भी कराती है. अजय के परिवार को सेना की इस बीमा पॉलिसी के 48 लाख रुपए 10 जून को भुगतान कर दिए गए थे. इसका दस्तावेज भी सेना ने रिलीज़ किया है. ये रक़म, शहीद अजय की मां मनजीत कौर के स्टेट बैंक के खाते में गई थी. सेना ने ये भी बताया कि अभी अजय के परिवार को लगभग 67 लाख 30 हज़ार रुपए और मिलेंगे. इसमें अनुग्रह राशि या एकमुश्त 44 लाख रुपए सेना से मिलेंगे. आर्मी वेल्फेयर फंड से अजय सिंह के परिवार को 8 लाख रुपए मिलेंगे. अजय सिंह की बची हुई सर्विस की सैलरी के पैसे भी उनके परिवार को मिलेंगे. ये रक़म लगभग 13 लाख रुपए होगी. इसके अलावा सर्विस फंड या सेवा निधि से भी अजय के परिवार को 2 लाख तीस हजार रु. की राशि मिलेगी. कुल मिलाकर, शहीद अग्निवीर अजय के परिवार को अभी सेना से 67 लाख तीस हजार रुपए और मिलने हैं. इस तरह अजय के परिवार वालों को कुल एक करोड़ पैंसठ लाख 69 हजार की रकम मिलनी है जिसमें से 98 लाख 39 हजार मिल चुके हैं. शहीद अजय के घर में माता पिता के अलावा छह बहनें हैं. अजय के पिता चरणजीत सिंह ने कहा कि राहुल गांधी चुनाव से पहले 29 मई को उनके घर आए थे. उस वक्त तक परिवार को पचास लाख रूपए मिल चुके थे. इसके बाद जून में 48 लाख रूपए और मिले. कुल करीब एक करोड़ रूपए मिल चुके हैं. चरणजीत सिंह ने कहा कि उन्हें नहीं मालूम ये पैसा केन्द्र सरकार ने भेजा है या राजनाथ सिंह ने भेजा है, लेकिन पैसा तो मिला है. अग्निवीर अजय की बहन बख़्शो कौर ने भी कहा कि उन्हें सेना से कोई शिकायत नहीं हैं. भाई की शहादत के बाद सेना हर वक्त परिवार के साथ खड़ी रही. भाई का अन्तिम संस्कार पूरे सैनिक सम्मान के साथ किया, परिवार की मदद की.जब भी जरूरत पड़ी तो एक फोन करने पर उन्हें मदद मिल गई. शहीद अजय सिंह के केस को लेकर चार बातें साफ हैं. पहली, सबके मन में अग्निवीर शहीद अजय के परिवार के प्रति सहानुभूति और सम्मान का भाव होना चाहिए. इस परिवार ने अपना इकलौता बेटा देश पर न्योछावर किया है. दूसरी बात, इस बलिदान की कोई कीमत नहीं लगाई जा सकती है, न हो सकती है. इसे रूपए पैसों से कभी तोला नहीं जा सकता. तीसरा, शहीद अजय के परिवार की जो भी सहायता की जा रही है, उसे देश का इस परिवार के प्रति कृतज्ञता का भाव मानना चाहिए. इसमें कोई शक नहीं कि इस परिवार को करीब एक करोड़ रूपए की रकम मिली है, कुछ राशि अभी मिलना बाकी है. चौथी बात, देश के प्रति एक सैनिक का बलिदान राजनीति का विषय नहीं होना चाहिए. ये दुर्भाग्य पूर्ण है कि शहीद को कितना मुआवज़ा मिला, इसकी चर्चा संसद में हुई. ऐसा लगता है कि जिन लोगों ने राहुल गांधी को जानकारी दी, उन्होंने राहुल को यही बताया कि परिवार को सहायता की राशि नहीं मिली है. संसद में जब राजनाथ सिंह ने राहुल गांधी को सूचित किया कि एक करोड़ रूपए दिया गया है, तब भी वो यही कह रहे थे कि परिवार वाले कुछ और बता रहे हैं. लेकिन आज जब सेना की तरफ से बयान जारी कर दिया गया, एक करोड़ की सहायता कब और कैसे दी गई, ये बता दिया गया, तो इस पर सब को भरोसा करना चाहिए. शहीद के लिए क्या करना है, कितना मुआवज़ा देना है, उनके परिवार को किस तरह की सहायता देनी है, ये काम हमारी फौज का है और उसके प्रति किसी को कोई सवाल नहीं उठाना चाहिए. हमारी फौज के प्रति लोगों के मन में जो भरोसा है, विश्वास है, उस पर किसी तरह की आंच नहीं आनी चाहिए. इतिहास गवाह है कि देश की सुरक्षा के लिए हमारी थल सेना, नौसेना और वायु सेना के बहादुर जवानों और अफसरों ने अनगिनत बलिदान दिए, न जाने कितने वीर जवान देश के लिए शहीद हुए और हमारा देश इस त्याग और बलिदान के लिए हमेशा उनका ऋणी रहेगा.

Get connected on Twitter, Instagram & Facebook

AGNIVEER COMPENSATION : TRUST WHAT THE ARMY SAYS

AKB30 Leader of Opposition in Lok Sabha Rahul Gandhi was embroiled in Agniveer controversy again on Thursday. He released a video of the father of 23-year-old Agniveer martyr Ajay Kumar, in which the father was shown as saying that the family had not received any compensation or help from the Centre after his son was killed in a landmine explosion in Naushera on January 18 this year. The Indian Army promptly rebutted the charge saying the martyr’s family has already received Rs 98 lakhs as insurance money, and another Rs 67 crore assistance from the government was in the pipeline. Two days ago, Rahul Gandhi had alleged in the Lok Sabha that Agniveer jawans do not get the status of martyr, nor do they get pension or any compensation if they lose their life or limb. As example, Rahul mentioned Agniveer martyr Ajay Kumar’s name and alleged that his family had told him that it did not receive any money from the government. Defence Minister Rajnath Singh immediately intervened and told Rahul Gandhi not to mislead the House. Rajnath Singh said that the family of any Agniveer jawan who is martyred during operations, is given Rs 1 crore as compensation and Ajay Kumar’s family was also paid the same. On Thursday, Rahul Gandhi took to social media and posted the video of the martyr’s father claiming that the family did not receive any money. Rahul Gandhi referred to this video and demanded that the Defence Minister must apologize for misleading the nation. Within two hours, the Army released a statement on X disclosing the exact amount received by the martyr’s family till date. The Army’s statement said, “Certain posts on social media have brought out that compensation hasn’t been paid to the next of kin of Agniveer Ajay Kumar who lost his life in the line of duty…The last rites were carried out with full military honours. Of the total amount due, family of Agniveer Ajay has already been paid Rs 98.39 lakhs. Ex-gratia and other benefits amounting to approximately Rs 67 lakhs, as applicable according to the provisions of the Agniveer scheme, will be paid on final account settlement shortly post due police verification. The total amount will be Rs 1.65 crore approximately.” In our prime time show ‘Aaj Ki Baat’, I explained the entire issue with the help of documentary evidence. Documents clearly show that after Agniveer Ajay was martyred on January 18, his mother Manjeet Kaur received Rs 50 lakhs as insurance claim from ICICI Lombard insurance company on February 13, after the family filed claim on January 24. This insurance policy is part of the Army’s Agniveer scheme, under which the defence ministry had signed a memorandum of understanding with ICICI Lombard company. It clearly states that Rs 50 lakh insurance money must be paid to any Agniveer who is martyred during war or near the border. Apart from this, the army itself insures the life of every Agniveer, under which Rs 48 lakhs were paid on June 10 to Ajay Kumar’s family. The money was credited to Ajay Kumar’s mother’s SBI account. Apart from this, the family will also receive Rs 44 lakh ex-gratia from the army, Rs 8 lakhs from Army Welfare Fund, and the salary money for the remaining part of his service, which comes to Rs 13 lakhs. Also, Ajay’s family will get Rs 2.30 lakhs from Service Fund. In all, the martyr’s family shall be getting Rs 67.30 lakh from the army, after police verification is over. The total amount that the family will receive will come to Rs 1,65,69,000, out of which Rs 98,39,000 has already been paid. Rahul Gandhi had posted the video of Charanjit Singh, Ajay’s father, resident of Ramgarh Sardaran village near Ludhiana. The question now is, who is telling the truth? Rahul Gandhi or Rajnath Singh? Several reporters met the family members on Thursday. Martyr Ajay Kumar has six sisters. His father Charanjit Singh said, Rahul Gandhi had come to their home on May 29 before polling, and by that time the family had already received Rs 50 lakhs, while Rs 48 lakhs were received in June. The martyr’s father said, the family did receive the money. The martyr’s sister Baksho Kaur said, they had no complaint against the army, which stood by the family after the martyrdom of her brother, and the funeral was done with full military honours. Four points must be clear from martyr Ajay Kumar’s case. One, everybody must have sympathy and respect for the martyr’s family, because Ajay was the only son in the family who laid down his life for the country. Two, martyrdom can never be and should never be measured through monetary compensation. The money that the martyr’s family received must be regarded as a token of gratitude of the nation towards the family. Three, the family has received almost Rs 1 crore, and more money is in the pipeline. Four, a soldier’s sacrifice must not be made a political issue. It is unfortunate that the martyr’s compensation was debated in Parliament. It appears that Rahul Gandhi was told by his associates that the family did not get any money. Even after the Defence Minister informed Rahul Gandhi inside the House that nearly Rs 1 crore has been given to the family, Rahul persisted in his allegation and blamed the Defence Minister for misleading the nation. Now that the Army has given details of the payments made to the martyr’s family, everybody should trust its explanation. It is the responsibility of the Army to ensure that compensation and ex-gratia are given to martyrs, and no questions must be raised. The people of India have full faith in our Army, and this should, in no case, be diminished. History is witness how our Army, Navy and Air Force jawans and officers gave their supreme sacrifice in defence of the motherland. The nation shall forever remain grateful to our armed forces for their sacrifice and valour.

Get connected on Twitter, Instagram & Facebook

विपक्ष के हर हमले से मोदी ज़्यादा मजबूत होते हैं

AKB30 संसद में विपक्ष ने फिर हंगामा किया. बुधवार को फिर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बोलने से रोकने की कोशिश की. राज्यसभा में कांग्रेस की अगुआई में विरोधी दलों के सांसदों ने खूब शोर मचाया, नारेबाजी की. लेकिन जब मोदी नहीं रूके, शोर शऱाबे के बीच भी मोदी अपना भाषण देते रहे, तो थक-हार कर विपक्ष ने वॉकआउट किया. विपक्ष के हंगामे पर सभापति को कहना पड़ा कि संसदीय इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ जब प्रतिपक्ष के नेता सदन के नेता को बोलने से रोक रहे हैं, विपक्ष के सांसदों से नारेबाजी करवा रहे हैं. सभापति ने कहा कि ये संविधान का, सदन का और संसदीय परपंराओं का घोर अपमान है. मोदी ने भी कहा कि झूठ का पहाड़ खड़ा करने वाले विपक्ष के नेताओं में सच सुनने का साहस नहीं है. मोदी ने याद दिलाया कि विपक्ष ने मंगलवार को लोकसभा में पूरी ताकत लगा दी, लेकिन उन्हें बोलने से नहीं रोक पाए, तो राज्यसभा में मैदान छोड़कर ही भाग गए. बुधवार को लोकसभा का वीडियो फुटेज मिला. तस्वीरों में साफ नज़र आ रहा था कि जब प्रधानमंत्री मोदी बोलने के लिए खड़े हुए थे, तो राहुल गांधी ये तय करके आए थे कि मोदी को बोलने से रोकना है. राहुल पहले से सदन में पहुंच चुके थे. जैसे ही स्पीकर ने प्रधानमंत्री को बोलने के लिए कहा, तो राहुल गांधी खड़े हो गए, नारेबाजी शुरू हो गई, राहुल ने कांग्रेस के सांसदों को वैल में जाने को कहा, बहाना मणिपुर को बनाय़ा गया, ये मांग की जाने लगी कि मोदी सबसे पहले मणिपुर पर बोलें. राहुल ने मणिपुर के अपनी पार्टी के दोनों सांसदों को आगे आने को कहा. लेकिन बड़ी बात ये है कि कांग्रेस के सासंद लोकसभा के नियमों और परंपरा को तोड़ने में हिचक रहे थे. वो अपनी सीटों से उठ कर तो खड़े हो गए, नारे भी लगाने लगे लेकिन राहुल के कहने पर भी वेल में नहीं गए. उसी वक्त राहुल गांधी के ठीक पीछे खड़े गौरव गोगोई आगे आए, वो खुद वेल में पहुंच गए. गौरव गोगोई ने पहले मणिपुर के दो सांसदों को हाथ पकड़ कर वेल में ले गए, उसके बाद पूर्वोत्तर के कांग्रेस के दो और सांसद भी वेल में रिपोर्टर्स की टेबल के पास स्पीकर के आसान के ठीक सामने आकर खड़े हो गए और नारे लगाने लगे. तस्वीरों में पूरी सिक्वैंस बिल्कुल साफ है. राहुल गांधी के इशारे पर सबसे पहले गौरव गोगोई कांग्रेस के कुछ सांसदों को खींच कर वेल में लाए, नारेबाजी करवाई. लेकिन राहुल गांधी इससे संतुष्ट नहीं थे. उन्होंने अपनी अपनी सीटों पर खड़े कांग्रेस और दूसरे विरोधी दलों के सांसदों को भी वेल में जाने का इशारा किया. उस वक्त भी विपक्ष के सांसद वेल में जाने से कतरा रहे थे. कांग्रेस की कुछ महिला सांसद राहुल के ठीक बगल में गैलरी में खड़ी थीं लेकिन वो वेल में नहीं गई. राहुल ने उन्हें भी बार बार इशारा करके वेल में भेजा. हालांकि स्पीकर ओम बिरला लगातार विपक्ष के नेता के इस रुख पर आपत्ति जता रहे थे, लेकिन राहुल गांधी ने स्पीकर की बात नहीं सुनी. जब राहुल ने हंगामा शुरू करवा दिया तो उसके बाद वह अपनी सीट पर बैठकर तमाशा देखने लगे. इसके बाद मोर्च संभाला DMK के नेता दयानिधि मारन ने. दयानिधि मारन खड़े हो गए, वह नारेबाजी के लिए विपक्ष के सासंदों को उकसाते हुए दिखाई दिए. हालांकि इस दौरान स्पीकर ओम बिरला ने विपक्ष के नेताओं को समझाया, फटकारा लेकिन कोई असर नहीं पड़ा. स्पीकर ने राहुल गांधी का नाम लेकर कहा कि उनका व्यवहार शर्मनाक है. स्पीकर ने कहा कि राहुल गांधी को अपने ओहदे की मर्यादा का पालन करना चाहिए लेकिन राहुल ने न तो स्पीकर की बात सुनी, न अपने सांसदों को नारेबाज़ी बंद करने को कहा. मैं तो ये देख कर हैरान हूँ कि जब इस तरह से सांसद पास खड़े थे, नारे लगा रहे थे, ताली पीट रहे थे तो भी नरेंद्र मोदी बिना रुके भाषण कैसे देते रहे? मोदी का फोकस अपने तर्कों पर कैसे बना रहा? इतने संगठित हंगामे के बीच वो विपक्ष के एक-एक आरोप का जवाब देते रहे, विचलित नहीं हुए. ये मुश्किल काम था. कल तो ये सिर्फ सुनाई दिया था कि मोदी के भाषण के दौरान विरोधी दलों के सांसद शोर मचा रहे थे, नारे लगा रहे थे, मोदी को बोलने से रोकने के लिए जोर लगा रहे थे लेकिन आज इस हंगामे के वीडियो फुटेज में जो दिखाई दिया, वो चौंकाने वाला है. संसद की परंपराओं को तार तार करने वाला है. नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी सांसदों को इशारा कर रहे हैं, शोर मचाने के लिए उकसा रहे हैं, जो सांसद वेल में जाने के लिए अनिच्छुक थे, उन्हें दूसरे नेता खींचकर ले जाते दिखाई दे रहे थे. वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि सांसदों ने हंगामा अपनी इच्छा से नहीं किया, उन्हें निर्देश देकर उनसे शोर मचवाया गया, उन्हें दबाव डालकर वेल में भेजा गया. अब इस घटनाक्रम के दो मतलब लगाए जा रहे हैं. एक तो विपक्षी दल का इरादा दिखाई देता है, ये हमारे सांसद हैं, हम उन्हें निर्देश दें, ये हमारी मर्जी है, अब हमारे पास ताक़त है, हम मोदी को रोकेंगे, बोलने नहीं देंगे, रोक सको तो रोक लो. दूसरा interpretation ये है कि संसद में ऐसा व्यवहार शोभा नहीं देता, राष्ट्रपति के अभिभाषण पर विपक्षी दलों के नेताओं ने जी भर के बोला. प्रधानमंत्री को उत्तर देने से रोकने की कोशिश करना संसदीय परंपरा का अपमान है और सब कुछ लाइव है, कैमरा पर है, देश की जनता सब देख रही है. लोकतंत्र के संस्कार तो यही सिखाते हैं. संसद में सवाल पूछो, पर जवाब भी सुनो. सदन में आरोप लगाओ, तो सफाई सुनने की हिम्मत भी रखो. लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष एक संवैधानिक पद है, जिम्मेदारी का पद है. ऐसे नेता सांसदों को उकसाते भड़काते दिखाई दें, ये कोई स्वीकार नहीं करेगा. नरेंद्र मोदी को देश की जनता ने प्रधानमंत्री पद की जिम्मेदारी दी है, उन्होंने उसका निर्वाह किया. राहुल गांधी को देश की जनता ने नेता प्रतिपक्ष बनाया है, लेकिन उनका व्यवहार इस पद के अनुकूल नहीं था. राज्यसभा में दस पन्द्रह मिनट के हंगामा के बाद विपक्ष के नेता थक गए, सदन से बाहर चले गए. इस पर प्रधानमंत्री ने कहा कि कि कांग्रेस पार्टी और उसके साथियों को सच का सामना करने का साहस नहीं है, जो सवाल उन्होंने उठाए उनके जवाब सुनने की हिम्मत नहीं हैं, इसलिए डरकर, मैदान छोड़कर भाग गए. मोदी ने विपक्ष के उन आरोपों का जबाव दिया जो चर्चा के दौरान सरकार पर लगाए गए थे. सबसे बड़ा इल्जाम था, विरोधी दलों के नेताओं के खिलाफ सरकार ED, CBI का इस्तेमाल कर रही है. मोदी ने कहा कि हकीकत ये है कि कांग्रेस अब देश भर मे भ्रष्टाचारी बचाओ अभियान चला रही है. कांग्रेस के नेताओं ने आम आदमी पार्टी के जिन लोगों को खुद भ्रष्टाचार के इल्जाम लगाए, सबूत दिए, अब उन्हीं को पाक साफ बता रही हैं. मोदी ने कहा कि आम आदमी पार्टी के नेताओं ने जिन लोगों को भ्रष्टाचारी कहा, जब ED ने एक्शन लिया तो आम आदमी पार्टी के लोग भी उन्ही नेताओं के बचाव में नारेबाजी करने लगे. मोदी ने कांग्रेस को चैलेंज किया कि अगर हिम्मत है तो कांग्रेस, आम आदमी पार्टी से जवाब मांगे. मोदी ने कहा कि पेपर लीक एक बड़ी समस्या है. उन्हें उम्मीद थी कि इस मुद्दे पर राजनीति से ऊपर उठकर चर्चा होगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. मोदी ने कहा कि वो नौजवानों को भरोसा देना चाहते हैं कि गड़बड़ी करने वालों को सरकार छोड़ेगी नहीं और साथ साथ परीक्षा प्रणाली को भी दुरूस्त करेगी. मोदी ने कहा कि मणिपुर में हिंसा चिंता की बात है, लेकिन मणिपुर का इतिहास पुराना है. मणिपुर में 11 हज़ार से ज़्यादा FIR की गई, 500 से ज़्यादा लोग गिरफ़्तार हुए हैं, इसका असर दिख रहा है, हिंसा की घटनाएं कम हुई हैं, स्कूल कॉलेज और ऑफिस खुल रहे हैं, इसलिए उन्हें उम्मीद है कि वहां हालात जल्द से जल्द सामान्य होंगे. मोदी ने हर उस सवाल का जवाब दिया जो विपक्ष ने चर्चा के दौरान पूछा था. संविधान में आरक्षण की चर्चा की, कश्मीर पर उत्तर दिया, ED-CBI पर अपने इरादे साफ कर दिए, पर इसका मतलब ये नहीं कि विपक्ष इन सवालों को उठाना बंद कर देगा. मोदी के कार्यकाल में ये सवाल लगातार उठते रहेंगे. सवाल पूछना, सरकार की आलोचना करना, विपक्ष का अधिकार भी है और जिम्मेदारी भी. लेकिन ये मर्यादा में रहकर हो तो देश के लिए बेहतर होगा. जहां तक मोदी का सवाल है, अगर विरोधी दलों के कुछ नेताओं को लगता है कि मोदी की सीटें कम हो गई हैं इसलिए वो मोदी को झुका देंगे वो गलतफहमी में हैं. अगर किसी को लगता है कि वो शोर शराबे से मोदी को डरा देंगे, तो वो मोदी को बिल्कुल नहीं जानते. जिन लोगों ने मोदी को 2002 से मुख्यमंत्री बनने के बाद से देखा है, उनको पता हैं कि मोदी आरोपों का, हमलों का, गालियों का जवाब कैसे देते हैं, मोदी पर जितने हमले होते हैं, उसमें से वो उतनी ज्यादा मजबूत होकर बाहर आते हैं. पिछले दो दिनों में मोदी ने एक बार फिर लोकसभा और राज्यसभा में ये करके दिखाया है.

Get connected on Twitter, Instagram & Facebook

EVERY ATTACK BY OPPOSITION MAKES MODI STRONGER

AKB30 Opposition MPs led by Congress again tried to disrupt Prime Minister Narendra Modi’s reply to the debate on Motion of Thanks in the Rajya Sabha on Wednesday. They shouted slogans and created a ruckus, but Modi continued with his speech, undeterred. Finally, the opposition MPs led by Leader of Opposition Mallikarjun Kharge staged a walkout, which was promptly condemned by the Chairman Jagdeep Dhankar. He said, it was the first time in India’s parliamentary history that the Leader of Opposition tried to stop the Leader of the House from speaking, and incited members to shout slogans. Prime Minister Modi said, the opposition lacked the courage to hear the truth. He reminded how the opposition tried its best to stop him from speaking in the Lok Sabha, and in the Upper House, they “ran away from the field”. On Wednesday, video footage surfaced of Rahul Gandhi “instigating” opposition MPs to go the well and stop the Prime Minister from speaking. Rahul Gandhi was seen egging on his party’s two MPs elected from Manipur to come to the well and shout slogans. Most of the Congress MPs initially stood near their seats and shouted slogans, and were reluctant to go to the well. Congress MP from Assam Gaurav Gogoi held the hands of his colleagues from Manipur and entered the well. The sequence of events in the footage is quite clear. It was at Rahul Gandhi’s instigation that his Gaurav Gogoi brought his party MPs to the well to shout slogans. Rahul Gandhi’s efforts did not end there. He gesticulated towards MPs from his allied parties and asked them to come to the well. Several female Congress MPs stood in the gallery, but was hesitant to go to the well. Finally, most of the MPs entered the well formed a wall in front of the Prime Minister, and carried on with their sloganeering. After doing this, Rahul Gandhi sat silently in his seat and watched the scene. Soon after, DMK leader Dayanidhi Maran stood up and started instigating other opposition MPs to shout slogans. The Speaker Om Birla chided the opposition, but it had no effect. The Speaker named Rahul Gandhi saying what he had done was shameful. I was surprised to note how Narendra Modi continued with his speech non-stop, and focussed on his arguments, with opposition MPs standing near him and shouting slogans in a hoarse voice. In the face of an organized pandemonium by the opposition, Modi did not lose his cool and replied to all allegations. This was indeed a difficult job. What was shown on Sansad TV on Tuesday was only the voice of opposition MPs shouting slogans, but the footage of the pandemonium was quite astonishing. It shows how parliamentary traditions were given a toss. The visuals clearly show the MPs were not doing this on their own. They were given directives to shout and enter the well. There can be two interpretations from this: One, either the opposition wants to show that it has numbers and strength, and it wants to do whatever it wants inside the House. Two, the other interpretation can be, such acts do not behove a parliamentary democracy. Opposition members were allowed full time to speak on the President’s address. To prevent the Prime Minister from speaking is an insult to parliamentary traditions. All the acts of these MPs were being seen live on camera by the entire nation. In a democracy, members have the right to ask questions and listen to replies in Parliament. They can level charges inside the House, but they must have the courage to listen to replies. The post of the Leader of Opposition in Parliament is a Constitutional position. It is a responsible position. Nobody, who believes in the values of liberty and democracy, will accept the leader of the opposition instigating his members to disrupt the proceedings. The people of India have given Narendra Modi the responsibility of Prime Minister, and he is carrying on with his responsibilities. The people have also made Rahul Gandhi the Leader of Opposition, but his behaviour was not in conformity with his position. In Rajya Sabha, Modi replied to almost all charges made by the opposition. The biggest charge was that the government was misusing ED and CBI against opposition leaders. Modi said, Congress is carrying on with its movement to “save bhrastacharis (corrupt leaders)”. He said, Congress had, in the beginning, itself levelled charges of corruption against Aam Aadmi Party in Delhi, and when ED took action, the Congress has begun to shield AAP leaders. Modi challenged Congress to “seek explanations from AAP, if it has the courage”. Modi reminded how investigative agencies were being misused by earlier regimes, and it was his government which has given these agencies a free hand to take action against the corrupt. “This action against corruption will continue”, Modi said. On Manipur, Modi spoke in detail, and said, while violence is a matter of concern, Manipur has an old history of ethnic violence. He said, the government was trying to improve the situation, and more than 11,000 FIRs have been filed, more than 500 people have been arrested, and the results are now showing. There has been a decline in violence in Manipur, schools and colleges have reopened and he expected the situation to further improve soon. Modi, in Rajya Sabha, replied to all points relating to Jammu & Kashmir, reservation policy in Constitution, economy and foreign policy. One must understand: the opposition has the right to ask questions, criticize the government, but it would be better for the country, if it does so in a dignified manner. If the opposition thinks that it can browbeat Modi because his party BJP has now a lesser number of seats, then it is mistaken. If the opposition thinks that Modi can be cowed down by sloganeering and disruptions, they do not know the real Modi. Those who have closely watched Modi since 2002 as chief minister, have seen how he replied to all allegations, attacks and abuses. The more opposition attacks Modi, the stronger he emerges. Modi has shown his mettle in the last two days, both inside Lok Sabha and Rajya Sabha.

Get connected on Twitter, Instagram & Facebook